Computer Center कैसे खोले पूरी प्रक्रिया जानें


कंप्यूटर centre इंस्टिट्यूट ko open karne ki puri jaankari yahan se lein jaise- kya documents, investment chahiye?. computer institute ke liye registration kaise kare, कम लागत में Center

 

अब हिंदी में जानें कंप्यूटर सेंटर या कंप्यूटर ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट शुरू करने या कंप्यूटर कोचिंग अकादमी खोलने या रजिस्टर करने की प्रक्रिया

 

सर्वा सूचना प्रौद्योगिकी एवं शैक्षणिक विकास, इंडिया जो की केंद्रीय भारत सरकार द्वारा प्रमाणित/लाइसेंस प्राप्त राष्ट्रीय संस्था है, जिसका लाइसेंस No.2/114/T-1/08/D, केन्द्रीय विधि मंत्रालय, न्याय और सीए विभाग No. GSR 288 (E) दिनांक 31.5.1991 की अधिसूचना के साथ पढ़ें। पंजीकरण क्रमांक U72900HP2008NPL030981, ISO 9001: 2015 स्वीकृत प्रमाण पत्र, जिसका नंबर: ACBCB/ICMC/HP02961Q, नई दिल्ली है, 1865+ मान्यता प्राप्त इंस्टिट्यूट/सेंटर|

 

अपना खुद का कंप्यूटर सेंटर या कंप्यूटर ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट शुरू करने या कंप्यूटर कोचिंग अकादमी खोलने या रजिस्टर करने की Process के लिए नीचे दिए गए सारे स्टेप्स और आवश्यकताओं का अनुसरण करें-

 

कंप्यूटर शिक्षा केंद्र क्षेत्र चयन:-

सबसे पहले आपको कंप्यूटर शिक्षा केंद्र खोलने के लिए स्थान का चयन करना होगा। विशेषज्ञों के सुझाव के अनुसार, आपका कंप्यूटर शिक्षा केंद्र या इंस्टिट्यूट का स्थान बस स्टैंड, स्कूल, कॉलेज, आईटीआई, कोचिंग सेंटर के नजदीक होना चाहिए।

कंप्यूटर शिक्षा संस्थान केंद्र के लिए भवन की आवश्यकताएं:-

स्थान का चयन करने के बाद, अगर आपके पास खुद का भवन नहीं है। तो आपको किराए पर कमरा लेना होगा, नया Computer Training Center Open या शुरू करने या Registered करने के लिए आपके पास कम से कम 1 कमरा होना चाहिए, जिसका क्षेत्रफल कम से कम 100 Sq. फ़ीट होना चाहिए।

कंप्यूटर प्रशिक्षण केंद्र खोलने के लिए फर्नीचर की आवश्यकताएं:- 

  • कंप्यूटर सेंटर की थ्योरी क्लास के लिए कम से कम 5 कुर्सियाँ खरीदे।
  • कंप्यूटर सेंटर की प्रैक्टिकल क्लास के लिए कम से कम 5 कुर्सियाँ खरीदे।
  • कंप्यूटर सेंटर की प्रैक्टिकल क्लास 3 कंप्यूटर टेबल खरीदे।
  • सेंटर डायरेक्टर केबिन के लिए 3 कुर्सियाँ और 1 टेबल खरीदे।
  • सेंटर में कम लागत और उच्च क्वालिटी के फर्नीचर की व्यवस्था करें।
  • कंप्यूटर टेबल आप अपने लोकल फर्नीचर शॉप से खरीद सकते हो या फिर कारपेंटर से बनवा सकते हो।

कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर आवश्यकताएँ:-

  • आपके कंप्यूटर सेंटर में कम से कम 3 कंप्यूटर होने चाहिए।
  • आपके सेंटर में 1 प्रिंटर होना चाहिए।
  • आपके सेंटर में 1 कनेक्शन इंटरनेट होना चाहिए, जैसे की ब्रॉडबैंड या मोबाइल 4 जी।
  • यदि आप बिजली बचाना चाहते हैं तो हम आपको कंप्यूटर एलसीडी या एलईडी खरीदने का सुझाव देंगे क्योंकि यह आम मॉनिटर की तुलना में कम बिजली की खपत करता है।
  • कंप्यूटर सिस्टम और प्रिंटर हमेशा लोकल कंप्यूटर शॉप से खरीदें, क्यूंकि कंप्यूटर को समय- समय पर सर्विस की जरुरत होती है जो की लोकल कंप्यूटर शॉप ही उपलब्ध करवा पाएगी।
  • कोर्सेज की सिलेबस के अनुसार, आपको कंप्यूटर सॉफ्टवेयर जैसे- एमएस ऑफिस, टाइपिंग ट्यूटर, टैली, जावा, ओरेकल, विजुलबेसिक, ऑटोकैड, कैटिया, कोरेलड्रॉ, पेज मेकर, फ्लैश आदि सॉफ्टवेयर्स की व्यवस्था करनी होगी। सॉफ्टवेयर के लिए आप कंप्यूटर शॉप से संपर्क करें, जहाँ से आपने कंप्यूटर सिस्टम ख़रीदे है या खरीदने वाले है।

कंप्यूटर Center Start करने, खोलने, रजिस्टर करने के लिए Required Documents, नीचे दी गई सूची को देखें:-

  • इंस्टिट्यूट डायरेक्टर की 2 पासपोर्ट साइज रंगीन तस्वीरें चाहिए।
  • इंस्टिट्यूट डायरेक्टर की 1 आधार कार्ड की कॉपी चाहिए।
  • इंस्टिट्यूट डायरेक्टर की 1 दसवीं के सर्टिफिकेट की कॉपी चाहिए।
  • इंस्टिट्यूट डायरेक्टर की 1 वोटर कार्ड की कॉपी चाहिए।
  • कंप्यूटर सेंटर के रजिस्ट्रेशन फॉर्म पर इंस्टिट्यूट डायरेक्टर के हस्ताक्षर चाहिए
  • सेंटर के फ्रंट साइड की और कमरों की फोटो (यदि सेंटर पहले से ही शुरू है तो)
  • अगर सेंटर अभी शरू नहीं हुआ है तो आपको हमसे सेंटर रजिस्टर करवाने के बाद, 2 महीने के अंदर सेंटर के फोटो भेजने होंगे।
  • इंस्टिट्यूट डायरेक्टर को उपरोक्त बताये गए सभी डाक्यूमेंट्स ईमेल पर भेजने होंगे।
  • कंप्यूटर सेंटर की रजिस्ट्रेशन फीस और स्टूडेंट के सर्टिफिकेट या डिप्लोमा की फीस जानने के लिए इन्क्वायरी फॉर्म भरे। इन्क्वायरी फॉर्म भरने के लिए यहाँ क्लिक करें
  • आपकी इन्क्वायरी मिलते ही हमारा एग्जीक्यूटिव आपको कॉल करेगा या आपकी ईमेल पर सारी डिटेल्स भेज देगा।

 

 

 

सुझाव: अपना कंप्यूटर प्रशिक्षण सेंटर शुरू करने से पहले" नीचे दर्शाये गए आसान बिंदुओं को ध्यान में रखें:-

  • सबसे पहले नोट करें की आपके क्षेत्र में पहले से कितने कंप्यूटर सेंटर खुले हुए है।
  • आपके कम्पीटीटर ने कंप्यूटर इंस्टिट्यूट में क्या सुविधा प्रदान की है।
  • आपके कम्पीटीटर के पास कितने कंप्यूटर सिस्टम है।
  • आपके कम्पीटीटर के पास कितने कंप्यूटर टीचर है।
  • आपका कम्पीटीटर कोर्सेज की कितनी फीस लेता है।
  • इसके बाद अपने कम्पीटीटर को देखते हुए और अपने बजट के अनुसार इन्वेस्टमेंट करे।
  • समय की जरुरत के अनुसार नए कोर्स डिजाइन करें ।

 

सबसे आसान तरीका अपना कंप्यूटर सेण्टर कैसे खोलें, कंप्यूटर इंस्टिट्यूट शुरू, रजिस्टर करें, सुझाव वो भी बहुत कम एवं निवेश में @सर्वा एजुकेशन गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया से प्रमाणित 

 

कंप्यूटर टीचर के लिए योग्ताएं:-

अगर आप अपने कंप्यूटर सेंटर में खुद नहीं पढ़ा सकते, तो आप अपने स्थानीय क्षेत्र से किसी भी व्यक्ति को टीचर नियुक्त कर सकते हैं, जिनके पास-

  • कम से कम 1 साल का कंप्यूटर डिप्लोमा हो जैसे की ADCA या DCA या PGDCA
  • या BCA या Bsc.IT या MCA डिग्री हो ।
  • या 2 साल का कंप्यूटर डिप्लोमा या O level का डिप्लोमा हो।
  • अगर टीचर को पहले से टीचिंग का अनुभव हो तो यह आपके इंस्टिट्यूट के लिए बहुत फायदेमंद होगा।

कंप्यूटर टीचर के लिए आप अपने लोकल एरिया के किसी भी प्राइवेट स्कूल में संपर्क करें उनके पास कंप्यूटर टीचर के रिज्यूम होते है या टीचर के लिए लोकल विज्ञापन दें।)

कंप्यूटर Center का नाम कैसे चुने:-

  • आपको अपने Computer Institute के पहले नाम के साथ निम्नलिखित शब्दों को भी शामिल करना चाहिए: कंप्यूटर शिक्षा, सॉफ्टवेयर ट्रेनिंग सेंटर, कंप्यूटर प्रशिक्षण संस्थान, कौशल केंद्र, आदि। हम आपको अपने केंद्र के नाम के साथ हमेशा "कंप्यूटर" शब्द शामिल करने का सुझाव देंगे।
  • कंप्यूटर सेंटर के नामों के कुछ उदाहरण- वेबटेक कंप्यूटर शिक्षा, एचआई-टेक कंप्यूटर स्किल, सॉफ्ट टेक कंप्यूटर एजुकेशन ट्रेनिंग सेंटर, बेसिक कंप्यूटर स्किल्स लर्निंग सेंटर, मूनलाइट कम्प्यूटर टाइपिंग सेंटर, सिग्मा टाइपिंग इंस्टिट्यूट, कैडइन्फो स्किल्स इंस्टीट्यूट, आशा कंप्यूटर अकाउंटिंग इंस्टीट्यूट, अपना बेसिक कंप्यूटर कोर्स सेंटर, जनरल कंप्यूटर हार्डवेयर अकादमी, स्टार कंप्यूटर कोचिंग इंस्टिट्यूट, रिवेरा मोबाइल रिपेयरिंग सेंटर, ऑनलाइन डिजिटल मार्केटिंग कोर्सेज इंस्टीट्यूट, कंप्यूटर साक्षरता मिशन आदि
  • कृपया ध्यान दें, अपने कंप्यूटर ट्रेनिंग सेंटर का नाम चुनने से पहले यह पुष्टि कर लें कि आपके सेंटर का नाम किसी भी अन्य इंस्टीट्यूट या संस्था या संगठन के पंजीकृत ट्रेडमार्क के साथ मैच तो नहीं हो रहा है, क्योंकि एक जैसा नाम रखना क़ानूनी अपराध है।
  • अगर आप अपना सेंटर किसी भी फ्रैंचाइज़ी या एफिलिएशन के माध्यम से चला रहे है या चलाने की सोच रहे है, तो भी हम आपको सुझाब देंगे अपने सेंटर का नाम जरूर रखें और अपने सेंटर के बैनर पर और लोकल विज्ञापन में अपने सेंटर का नाम टॉप पर लिखें और उसके नीचे जिस संस्था से आपने Computer फ्रैंचाइज़ी या Affiliation ली है उसका नाम लिखे। ऐसा करने से आपको बहुत लाभ मिलेगा जैसे की-
  1. आपके सेंटर का नाम भी एक ब्रांड बन जाएगा आपके लोकल एरिया मे।
  2. अगर आपका अपनी फ्रैंचाइज़ी संस्था से कोई बिबाद हो जाता है तो आप किसी अन्य संस्था की फ्रैंचाइज़ी लेने के लिए स्वतंत्र हो क्यूंकि आपने भी अपने सेंटर का नाम लोकल एरिया में ब्रांड बना दिया है।

सेंटर में कौन से कोर्सेज चलाएं:-

आप सर्वा एजुकेशन से अपने सेंटर के लिए फ्रैंचाइज़ी/एफिलिएशन/रजिस्ट्रेशन लेकर आप वैलिड कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कोर्सेज, कंप्यूटर हार्डवेयर और नेटवर्किंग कोर्सेज, टीचर ट्रेनिंग कोर्सेज और स्किल एडवांसमेंट कोर्सेज चला सकते है, जो की राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय जॉब्स के लिए एप्लीकेबल है अधिक जानकारी के लिए नीचे देखें-

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कोर्सेज-

  • बेसिक से लेकर एडवांस कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कोर्सेज चला सकते हो, जैसे की- Paint, MS Office, Internet, ADCA, DCA, PGDCA, ADFA, DFA DOAP, DCOMA, CBC, CFA, Animation Courses, Online Digital Marketing Courses, Online Affiliate Marketing Courses Computer Saksharta Mission Training Courses, Computer Saksharta Abhiyaan Courses इत्यादि।
  • कंप्यूटर टाइपिंग कोर्सेज जैसे की- English Typing, Hindi Typing, Punjabi Typing, Marathi Typing, Kannada Typing-Nudi Software, Typewriting इत्यादि।  
  • कंप्यूटर प्रोग्रामिंग कोर्सेज जैसे की- C++, Oracle, Java, Visual Basic इत्यादि।   
  • कंप्यूटर फाइनेंसियल एकाउंटिंग कोर्सेज जैसे की- Tally or Marg or BusyLs इत्यादि।   
  • डेस्कटॉप पब्लिशिंग कोर्सेज (डी टी पी)- जैसे की- PageMaker, CorelDraw, Photoshop इत्यादि।   
  • वेबसाइट डिजाइनिंग कोर्सेज जैसे की- HTML, DHTML, JavaScript, ASPX. PHP इत्यादि।   
  • बेसिक कैड कोर्सेज जैसे की- AutoCad 2D & 3D Drafting/Designing Civil Engineering/Catia इत्यादि।    

कंप्यूटर हार्डवेयर और नेटवर्किंग कोर्सेज-

बेसिक से लेकर एडवांस कंप्यूटर हार्डवेयर और नेटवर्किंग कोर्सेज चला सकते हो, जैसे की- DCH, DCN, ADHT, ADCHN, CPU Reparing, Hardware & Networking,  Assembling & Disassembling of Computer, Analog Electronic, Digital Electronic, Mobile Repairing इत्यादि।     

टीचर ट्रेनिंग कोर्सेज-

Nursery Teacher Training Course- NTT, PTT, Montessori Courses, Computer Teacher Training-CTT) (नर्सरी टीचर ट्रेनिंग- एनटीटी, पीटीटी, मोंटेसरी ट्रेनिंग, कंप्यूटर टीचर ट्रेनिंग-सीटीटी) इत्यादि।

स्किल एडवांसमेंट कोर्सेज-

स्किल डेवलपमेंट कोर्सेज जैसे की- Music Courses, Dress Designing Courses, Fashion Designing Courses. Cutting & Tailoring Courses, Beauty Parlour courses, Beautician courses, Call Center Training Courses, IELTS Courses, Shorthand Courses, Stenography Courses, English Speaking/Spoken English & Personality Development Training Courses, Skill Development Programme Courses इत्यादि।

आपको उपरोक्त कोर्सेस को एडिट करने और नए कोर्सेज ऐड करने का अधिकार होगा।

अपने कंप्यूटर सेंटर के लिए बेस्ट कंप्यूटर सेण्टर फ्रेंचाइजी या इंस्टिट्यूट एफिलिएशन या रजिस्ट्रेशन प्रदान करने वाली संस्था का चुनाब कैसे करें:-

  • कोई भी कंप्यूटर फ्रैंचाइज़ी संस्था, जो पूरे भारत में कंप्यूटर सेंटर शुरू करने या कंप्यूटर इंस्टिट्यूट ओपन करने या कंप्यूटर कोचिंग सेंटर रजिस्टर करने के लिए कंप्यूटर सेंटर फ्रैंचाइज़ी, कंप्यूटर एजुकेशन फ्रैंचाइज़ी कंप्यूटर इंस्टिट्यूट एफिलिएशन या कंप्यूटर ट्रेनिंग सेंटर रजिस्ट्रेशन का अवसर प्रदान कर रहा है, तो उस संस्था के पास पूरे भारत में कंप्यूटर इंस्टीट्यूट्स को ओपन (स्टार्ट) करने का अधिकार क्षेत्र होना चाहिए, और इसके लिए वो संस्था केंद्रीय सरकार के अधिनियम के तहत किसी मंत्रालय या विभाग से प्रमाणित या लाइसेंस या परमिशन प्राप्त होनी चाहिए।
  • कोई भी कंप्यूटर सेंटर एफिलिएशन प्रदान करने वाली संस्था, जो राज्य स्तर या जिला स्तर पर राज्य सोसायटी अधिनियम या ट्रस्ट अधिनियम के तहत या NCT(National Capital Territory)-दिल्ली राज्य सरकार के तहत पंजीकृत है, वो केवल संबंधित राज्य या जिले में ही अपने कार्यों का संचालन कर सकती है क्यूंकि वो स्टेट एक्ट के अधीन पंजीकृत होती है न की सेंटर सरकार के एक्ट के अधीन ।
  • ध्यान दें- एजुकेशनल सोसायटी या एजुकेशनल ट्रस्ट का गठन और पंजीकरण केवल स्कूल, आईटीआई या कॉलेज खोलने और स्कूल बोर्ड, यूनिवर्सिटी से संबद्धता प्राप्त करने के उद्देश्य किया जाता है न की किसी दूसरे इंस्टिट्यूट को फ्रैंचाइज़ी देने के लिए किया जाता है। तो ऐसी सोसाइटी या ट्रस्ट से फ्रैंचाइज़ी लेने से बचे।
  • यह भी ध्यान दें- "भारत सरकार" के पास ही केवल लायन Logo या अशोक चक्र प्रतीक चिन्ह का उपयोग करने का अधिकार है, कोई भी सोसाइटी या ट्रस्ट अपने शैक्षिक कार्यक्रम, वेलफेयर कार्यकर्मों या किसी भी तरह के प्रमाणपत्रों पर इसका उपयोग नहीं कर सकते हैं, आप इस संबंध में कानूनी विशेषज्ञों से भी परामर्श कर सकते हैं।

फ्री कंप्यूटर सेंटर फ्रैंचाइज़ी या फ्री कंप्यूटर एजुकेशन एफिलिएशन या फ्री कंप्यूटर ट्रेनिंग सेंटर रजिस्ट्रेशन-

कुछ संस्थाओं द्वारा कंप्यूटर इंस्टिट्यूट शुरू करने के लिए अपने विज्ञापनों में फ्री कंप्यूटर सेंटर फ्रैंचाइज़ी या फ्री कंप्यूटर एजुकेशन एफिलिएशन या फ्री कंप्यूटर ट्रेनिंग सेंटर रजिस्ट्रेशन, सरकारी फ्री कंप्यूटर ट्रेनिंग स्कीम जैसे शब्दों का प्रयोग किया जाता है।

तो हम आपको बताना चाहते है ऐसी ज्यादातर संस्थाओं के पास भारत की केंद्रीय सरकार की तरफ से प्रॉपर परमिशन नहीं होती है, इसिलए इन्हे फ्री शब्द का सहारा लेना पड़ता है।

और उनके द्वारा इशू किये गए सर्टिफिकेट्स की भी कोई वैल्यू नहीं होती, ज्यादातर जॉब्स में इनके सर्टिफिकेट अमान्य होते है।

ऐसी ज्यादातर संस्थाएं अपनी वेबसाइट पर सरकार की कंप्यूटर स्कीम्स के लोगोस लगाकर या प्रधानमंत्री जी की फोटो लगाकर पब्लिक को गुमराह करती है और ऐसा करने की उनके पास सरकार की तरफ से कोई भी परमिशन नहीं होती है।

हाँ कुछ एक संस्थाओं ने सरकार की कंप्यूटर ट्रेनिंग स्कीम ली होती है इसके लिए आप उस सरकारी स्कीम की गवर्नमेंट वेबसाइट पर जाएँ  और उस संस्था का नाम वेरीफाई करे।

ज्यादातर संस्थाए फ्री शब्द का प्रयोग करते हुए आपसे पैसा ऐंठती है, जैसे की आपको बोलेंगे हम तो फ्रैंचाइज़ी फीस नहीं ले रहे बस सेंटर एक्टिवेशन या प्रोसेसिंग फीस ही ले रहे है, अब आपके दिमाग में एक प्रश्न आ रहा होगा केवल थोड़ी सी प्रोसेसिंग फीस ही तो ले रहे इसमें क्या प्रॉब्लम है, तो हम बताना चाहते है आपको शुरू से ही ऐसी संस्थाओं ने फ्री फ्री शब्द बोलके आकर्षित किया था और वो अब आपसे पैसा मांग रही है यानी शुरू में ही धोखा हो गया, आपके साथ, तो यहीं से उनकी कथनी और करनी का पता चल जाता है, तो आगे क्या होगा, आप खुद ही समझदार है।

हमारे सुझाब में अगर कोई भी संस्था फ्री कंप्यूटर सेंटर फ्रैंचाइज़ी या फ्री कंप्यूटर कोर्सेज एफिलिएशन शब्द का प्रयोग करे तो आप उसे एक भी पैसा न दें, नाहि फ्रैंचाइज़ी लेते समय और न ही उसके बाद में, क्यूंकि फ्री का मतलब होता है बिना किसी चार्ज के।

बाकी ऐसी संस्थाओं को ज्वाइन करना आपके अपने जोखिम पर है, आप ज्वाइन करने के लिए स्वतंत्र हो, हम केवल आपको सुझाब ही दे सकते है ताकि आप फ़्रॉडुलेंट एक्टिविटी से अपने को बचा सके। 

कंप्यूटर एजुकेशन कौंसिल या वोकेशनल कौंसिल या कंप्यूटर ट्रेनिंग बोर्ड जैसे शब्दों का प्राइवेट संस्थाओं द्वारा प्रयोग:-

आजकल कुछ एक प्राइवेट संस्थाएं राष्ट्रीय स्तर पर फ्री कंप्यूटर एजुकेशन फ्रैंचाइज़ी प्रदान करने के लिए अपनी संस्थाओं के नाम के साथ कंप्यूटर एजुकेशन कौंसिल या वोकेशनल कौंसिल या कंप्यूटर ट्रेनिंग बोर्ड जैसे शब्दों का प्रयोग कर रही है, जो की क़ानूनी रूप से अनुचित और अवैध है।

ऐसे शब्दों को देखकर पब्लिक बड़े स्तर पर गुमराह होती है। हम आपको बता दें केवल केंद्र सरकार या राज्य सरकार के पास ही एजुकेशनल कौंसिल, वोकेशनल कौंसिल और बोर्ड स्थापित करने का अधिकार है और इन्ही कौंसिल और बोर्ड्स द्वारा स्कूल, आईटीआई यूनिवर्सिटी शुरू करने के लिए मान्यता दी जाती है।

किसी भी प्राइवेट संस्था के पास कौंसिल या बोर्ड स्थापित करने का अधिकार नहीं है, तो ऐसी संस्थाओं के साथ जुड़ने से बचे। ज्यादा जानकारी के लिए लीगल एक्सपर्ट के रायें लें।

ISO 9001:2015 प्रमाणित संस्था द्वारा कंप्यूटर सेंटर के लिए फ्रैंचाइज़ी:-

केवल आईएसओ 9001:2015 सर्टिफिकेशन के आधार पर अपने कंप्यूटर शिक्षा केंद्र के लिए किसी भी Computer फ्रेंचाइजी संस्था का चयन न करें, क्यूँकि आईएसओ केवल उस संस्था के क्वालिटी मैनेजमेंट सिस्टम के लिए दिया जाता है। ISO सर्टिफिकेट के आधार पर कोई भी संस्था न तो किसी इंस्टिट्यूट को फ्रैंचाइज़ी दे सकती है न ही स्टूडेंट को डिप्लोमा इशू कर सकती है, ISO सर्टिफिकेशन अथॉरिटी ऐसा करने की अनुमति कभी नहीं देता है।

अगर आप केवल ISO 9001:2015 सर्टिफिकेशन देखकर ही किसी भी संस्था की फ्रैंचाइज़ी लेने जा रहे हो तो इससे बचें। क्यूँकि यह ISO सर्टिफिकेशन अथॉरिटी और सरकार की नजर में एक गैर क़ानूनी गतिबिधि मानी जायेगी।

MHRD (मानव संसाधन विकास मंत्रालय-भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त संस्था द्वारा कंप्यूटर शिक्षा केंद्र का पंजीकरण या फ्रैंचाइज़ी:-

अधिकांश कंप्यूटर फ्रैंचाइज़ी संस्थाएं आपको यह बताती है की उनकी संस्था और कोर्सेज MHRD (मानव संसाधन विकास मंत्रालय-भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त है, लेकिन वास्तव में वे आपको बेवकूफ बना रही होती हैं, क्यूँकि MHRD कभी भी किसी कंप्यूटर फ्रैंचाइज़ी संस्था को या उसके द्वारा चलाये गए कोर्सेज को मान्यता नहीं देता है, न ही कंप्यूटर सर्टिफिकेट इशू करने का अधिकार देता है।

हम आपको इसके पीछे की पूरी सचाई बताते है, बास्तव में इस प्रकार की कंप्यूटर फ्रैंचाइज़ी संस्थाओं ने कॉपीराइट सुरक्षा के लिए MHRD के कॉपीराइट कार्यालय में कॉपीराइट अधिनियम के तहत अपनी संस्था के लोगोस या स्टडी मटेरियल्स जैसे की- कोर्सेज के प्रॉस्पेक्टस या ब्रोशर इत्यादि इत्यादि का पंजीकरण करवाया होता है, ताकि जब भी कोई व्यक्ति या संस्था उनकी अनुमति के बिना उनके लोगोस या कोर्सेज के प्रॉस्पेक्टस या ब्रोशर इत्यादि को कॉपी करने की कोशिश करता है तो वे उन पर कॉपीराइट अधिनियम के तहत कानूनी कार्रवाई कर सकें|

यह भी ध्यान दें- अब सरकार ने अलग से एक कॉपीराइट पंजीकरण कार्यालय खोला है, तो अब कोई भी कंप्यूटर फ्रैंचाइज़ी संस्था अपनी पंजीकृत कॉपीराइट सामग्री के साथ “MHRD-भारत सरकार” शब्द का प्रयोग नहीं कर सकता है। ऐसा करना गैर क़ानूनी है। अब जो भी कॉपीराइट पंजीकरण सर्टिफिकेट सरकार द्वारा इशू किया जाता है उसमें MHRD (मानव संसाधन विकास मंत्रालय-भारत सरकार लिखा हुआ नहीं आता है।  

MSME (Ministry of Micro, Small & Medium Enterprises) रजिस्टर संस्था द्वारा कंप्यूटर इंस्टिट्यूट फ्रैंचाइज़ी:-

आजकल कुछ एक कंप्यूटर फ्रैंचाइज़ी संस्थाएं और कंप्यूटर सेंटर अपने नाम को MSME, भारत सरकार की वेबसाइट पर रजिस्टर करवाकर स्टूडेंट को सर्टिफिकेट इशू कर रहे है जो की बिलकुल ही गैर-क़ानूनी है|

MSME ऐसा करने की अनुमति कभी नहीं देता है। आप MSME, भारत सरकार की वेबसाइट पर आप अपने बिज़नेस को रजिस्टर कर सकते हो ताकि आपके बिज़नेस को एक UAN (उद्योग आधार नंबर) और उसका ऑनलाइन सर्टिफिकेट मिल सके। बिलकुल उसी तरह जैसे किसी व्यक्ति को आधार कार्ड नंबर सरकार द्वारा इशू किया जाता है।

प्राइवेट यूनिवर्सिटी के कोर्सेज की फ्रैंचाइज़ी:-

अपने इंस्टिट्यूट के लिए प्राइवेट विश्वविद्यालय के कोर्सेज की फ्रैंचाइज़ी लेने से बचें, क्योंकि UGC (University Grant Commission) ने प्राइवेट विश्वविद्यालय के फ्रैंचाइज़ी सेंटर खोलने पर पूर्ण प्रतिबंध लगा रखा है, अब निजी विश्वविद्यालय फ्रैंचाइज़ी स्टडी सेंटर नहीं खोल सकते है, यदि आप अभी भी किसी प्राइवेट यूनिवर्सिटी की फ्रैंचाइज़ी के तहत कोर्सेज चला रहे हैं तो इसे आज ही छोड़ दें क्योंकि आप परेशानी में पड़ सकते हैं।

इस सबंध में यूजीसी का पब्लिक नोटिस पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अपना नया कंप्यूटर शिक्षा प्रशिक्षण संस्थान खोलने-शुरू करने और कंप्यूटर सेंटर पंजीकरण-फ्रैंचाइज़ी-एफिलिएशन-मान्यता सवन्धी दी गयी उपर्युक्त सभी आवश्यकताएं, प्रोसेस, प्रक्रिया एवं दिशा-निर्देश केवल एक सुझाव मात्र है। आप अपनी वित्तीय स्थितियों एवं विवेकशीलता के अधार पर अपने सेंटर में निवेश करने का निर्णय ले सकते है।

हम आपको सर्वा एजुकेशन जो की भारत की विश्वसनीय, नंबर 1, बेस्ट संस्था है, के साथ कम लागत में भारत के किसी भी हिस्से में अपना नया कंप्यूटर शिक्षा प्रशिक्षण केंद्र या इंस्टिट्यूट खोलने/शुरू करने के लिए शुभकामनाएं देते है।

जैसे की- उत्तर प्रदेश, यूपी (लखनऊ), आंध्र प्रदेश AP (हैदराबाद), अरुणाचल प्रदेश (ईटानगर), असम (दिसपुर), बिहार (पटना), छत्तीसगढ़ CG (रायपुर), गोवा (पणजी), गुजरात (गांधीनगर), हरियाणा (चंडीगढ़), हिमाचल प्रदेश, HP (शिमला), झारखंड रांची), कर्नाटक (बैंगलोर), केरल (तिरुवनंतपुरम), मध्य प्रदेश MP (भोपाल), महाराष्ट्र (मुंबई), मणिपुर (इंफाल), मेघालय (शिलांग), मिज़ोरम (आइज़ोल), नागालैंड (कोहिमा), ओडिशा (भुवनेश्वर), पंजाब (PB), राजस्थान (जयपुर), सिक्किम (गंगटोक), तमिलनाडु (चेन्नई), तेलंगाना (हैदराबाद), त्रिपुरा (अगरतला), उत्तराखंड (देहरादून), पश्चिम बंगाल WB (कोलकाता), अंडमान और निकोबार द्वीप समूह (पोर्ट ब्लेयर), चंडीगढ़ (चंडीगढ़), दादरा और नगर हवेली (सिलवासा), उड़ीसा, दमन दीव (दमन), एनसीटी ऑफ़ दिल्ली (दिल्ली), जम्मू एंड कश्मीर, (श्रीनगर, जम्मू), लद्दाख (लेह), लक्षद्वीप (कावारत्ती), पांडिचेरी (पुदुचेरी)।

नोट- इस वेबपेज को एडवोकेट्स के सुझावों के अनुसार लिखा गया है।

Computer इंस्टिट्यूट Open Karne की फुल प्रोसेस, आवश्यकताएँ, जानने के लिए, यहाँ क्लिक करें! और इन्क्वायरी फॉर्म भरें |

क़ानूनी चेतावनी- इस वेबपेज पर सभी उल्लेखित लेख सामग्री या पैराग्राफ SITED द्वारा कॉपीराइट किए गए हैं- यदि ये सामग्री कहीं भी पाई जाती है  जैसे की इंटरनेट, वेबसाइट, प्रिंटेड सामग्री, डिजिटल सामग्री,  तो फिर डिफॉल्टर के खिलाफ भारत के कॉपीराइट कानूनों के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी।